Romantic Shayari in Hindi – रोमांटिक शायरी हिंदी में

कोई फर्क नही पड़ता
कि तुमने किसे चाहा
और कितना चाहा…..
हमें तो ये पता है
कि हमने तुम्हें चाहा
और हद से ज्यादा चाहा…



बाहों में छिपाकर रखूं तुझको

सीने से लगाकर रखूं तुझको,

आओ कभी तुम ख्वाबों में मेरे

और मैं ख्वाबों में सजाकर रखूं तुझको

वहम से भी अक्सर खत्म हो जाते हैं कुछ रिश्ते
कसूर हर बार गल्तियों का नही होता

गीता पढ़ने से ज्ञान नहीं मिलता,
मंदिर जाने से भगवान नहीं मिलता,
लोग पत्थर तो इसलिए पूजते हैं कि,
विश्वास के लायक कोई इंसान नहीं मिलता..

ये मेरी तलाश का जुर्म है,
या मेरी नज़र का क़सूर है,
जो दिल के जितना क़रीब है,
वो नज़र से उतना दूर है..

Thank you…….